Skip to content

Intraday Trading VS Delivery Trading Which is Better in Hindi?

    Intraday Trading VS Delivery Trading Which is Better For Beginners Hindi | Intraday और Delivery के बीच अंतर – शेयर बाजार एक Versatile बाजार है जहां सभी प्रकार के Traders और Investors के लिए कई Financial Products उपलब्ध हैं। कुछ Short Term Trading को पसंद करते हैं जबकि कुछ Long Term Trading या निवेश पसंद करते हैं। शेयर बाजार में सबके लिए कुछ न कुछ है। निवेशक अपने निवेश को कंपनी के साथ पैसा बनाने और फिर उसके बढ़ने के इरादे से रखते हैं। निवेशक अपने निवेश को बेचने और अपना मुनाफा बुक करने की जल्दी में नहीं होते,

    जबकि दूसरी ओर, Traders समय-समय पर अपना मुनाफा बुक करते हैं। जब लाभ बुक किया जाता है, उसके आधार पर, Traders की खरीद और बिक्री की गतिविधियों को दो तरह से बांटा जा सकता है, जिन्हें हम एक तो Intraday Trading कहते हैं और दुसरे को Delivery Trading के नाम से जानते हैं। मगर काफी लोग अक्सर ये सवाल करते हैं की Intraday or Delivery Which is Better in Hindi यानी Intraday और Delivery में से कौन-सा अच्छा है या कौन-सा लेना चाहिए?

    तो आज हम इस Article के अंदर इन दोनों प्रकारों को उनके फायदे और नुकसान के साथ विस्तार से देखते और समझते हैं कि इन Trades से कैसे संपर्क किया जाना चाहिए। और कौन-सा हमारे लिए ज़्यादा फायदेमंद रहता है।

    Intraday Vs Delivery in Hindi

    Intraday Trading VS Delivery Trading Which is Better For Beginners Hindi
    Intraday Trading VS Delivery Trading Which is Better For Beginners Hindi

    Intraday Trading किसे कहते हैं?:

    Intraday Trade एक ऐसा लेनदेन है जहां आप एक Trading Session के अंदर एक शेयर बेचते या खरीदते हैं यानी की आसान शब्दों में अगर समझे तो इसमें हमे एक ही दिन में शेयर को खरीदना होता है और Market Close होने से पहले ही उसे बेचना भी होता है। Intraday Trades को ऑर्डर के एक अलग सेट के माध्यम से Execute किया जाता है। इंट्राडे ऑर्डर के माध्यम से Executed Traders को Trading के दिन के अंत तक चुकता करना होता है। अगर आप ख़ुद ही उस स्थिति से बाहर नहीं निकल जाते हैं, तो आपका ब्रोकर बंद होने के समय उपलब्ध मूल्य पर खुले Trades को बंद कर सकता है। आपको इस प्रक्रिया के बारे में अपने ब्रोकर से जांच करनी चाहिए।
    और अगर शेयर की कीमत Target Selling Price से कम है, तो ऐसे में Traders शेयर खरीदते हैं। और जब कीमत अपने Target Level तक पहुंच जाती है, तो वे शेयर बेच देते हैं और दिन के लिए अपना मुनाफा बुक करते हैं। अगर कीमत उनकी Target Values तक नहीं पहुँचती है, तो दिन के अंत में, उन्हें वैसे भी शेयर बेचने ही पड़ते हैं, जो भी उस वक्त Best Value उपलब्ध हो।

    Intraday Trading के लाभ:-

    इंट्राडे ट्रेडिंग के कुछ लाभ यहां दिए गए हैं।

    छोटी पूंजी (Capital) की जरूरत:

    Margin Fund का इस्तेमाल इंट्राडे ट्रेडर्स द्वारा पोजीशन लेने के लिए किया जाता है। आप Advance में ज्यादा भुगतान किए बिना बड़े Trade के लिए Margin का इस्तेमाल कर सकते हैं।

    After Market News का कोई जोखिम नहीं:

    क्योंकी बाजार बंद होने से पहले उसी दिन पोजीशन को चुकता कर दिया जाता है, इसलिए बाद में आने वाली किसी भी खबर का कोई भी प्रभाव इसके अंदर नहीं पड़ता है। आप अगले दिन नए सिरे से शुरुआत कर सकते हैं।

    Liquidity अधिक है:

    कम समय सीमा Traders को एक ही दिन में अपने पदों को खत्म करने की अनुमति देती है। यह Traders के लिए भी फायदेमंद है क्योंकि यह उन्हें जल्दी से मुनाफा बुक करने की अनुमति देता है।

    Intraday Trading के नुकसान:

    इंट्राडे ट्रेडिंग में भी कुछ कमियां हैं। आइए उन पर नजर डालते हैं।

    पूरा ध्यान देने की ज़रूरत:

    Optimum Profits के लिए खुद को स्थिति में लाने के लिए आपको बाजारों की गतिविधियों पर कड़ी नज़र रखनी चाहिए। यह अनुशासन Trading के दूसरे रूपों से काफी अलग है।

    कोई Dividends, बोनस या अधिकार नहीं:

    Trading के दूसरे रूपों के विपरीत, Intraday Traders के पास शेयर नहीं होते हैं। इसका मतलब है कि उनके पास ऐसे अधिकार और खास अधिकार नहीं हैं जो शेयरों के मालिक होने के साथ आते हैं।

    Delivery Trading क्या है?

    शेयर बाजार में सबसे लगातार ट्रेडिंग रणनीतियों में से डिलीवरी ट्रेडिंग ही है। Intraday Trading के विपरीत, Delivery Trading में केवल ट्रेडिंग संभावनाओं के बजाय निवेश करने का एक Clear Goal शामिल होता है। इसके अंदर एक Investor को अपने खरीदे गए स्टॉक को लंबे समय तक अपने पास रखना होता है और जब कभी भी उसे मुनाफा होता नज़र आए तब वो उसे तुरंत और किसी भी वक्त बेच सकता है,

    और जब भी स्टॉक बेचने की बात आती है तो इस प्रक्रिया में कोई भी किसी भी तरह की समय सीमा नहीं होती है।

    जैसे ही शेयरों को लिंक किए गए  Demat Accounts में वितरित किया जाता है, उसे ही Delivery Deal माना जाता है। Demat Account के बिना, आप Delivery Transaction को Execute ही नहीं कर पाएंगे इसीलिए Trading करने के लिए आपके पास एक अपना Demat Account होना भी काफी ज़रुरी है क्योंकि आपके शेयर उसके अंदर ही रखे जाते हैं।

    Delivery Trading के लाभ:-

    डिलीवरी ट्रेडिंग के कुछ लाभों के बारे में नीचे बताया गया है।

    पर्याप्त समय उपलब्ध होता है:

    एक Shareholder के रूप में, आप जब तक चाहें अपने शेयरों को अपने पास रखने के लिए पूरी तरह से Independent हैं। अगर आपके शेयर Short Term में अच्छा प्रदर्शन नहीं करते हैं, तो तुरंत Loss Book करने की जरूरत नहीं है। अगर Long Term में शेयरों के अच्छा प्रदर्शन करने की संभावना है, तो आपके पास शेयरों को बनाए रखने का विकल्प होता है।

    सीमित नुकसान:

    Delivery Trading में कोई Margin Money शामिल नहीं है, इसलिए अधिकतम नुकसान शेयरों को खरीदने के लिए भुगतान की गई राशि तक सीमित है। जबकि Margin के मामले में नुकसान ज्यादा हो सकता है।

    Dividend Income, Bonus Share, आदि:

    क्योंकी आपके पास शेयर हैं, इसलिए आप कंपनी द्वारा घोषित Dividend को प्राप्त करने के लिए पूरी तरह से Eligible हैं। कंपनी द्वारा घोषित किसी भी तरह का Bonus Share भी आपके Demat Account में सीधा जमा हो जाता है।

    Delivery Trading केनुकसान:

    आइए Delivery Trading के कुछ नुकसानों को भी देख लेते हैं:

    पूंजी लंबी अवधि के लिए Blocked है:

    जैसा की आपको मालूम ही है की Delivery Trading में Margin का लाभ उपलब्ध नहीं है, इसलिए निवेश की गई पूंजी तब तक Blocked रहती है जब तक कि शेयर बेचे नहीं जाते। इससे Liquidity भी काफी प्रभावित होती है।

    Leverage उपलब्ध नहीं है

    मान लीजिए अगर आप 120 रुपये एक शेयर के 100 शेयर खरीदते हैं। तब ऐसे में आपको शेयर खरीदने के लिए 12,000 रुपये की पूरी पूंजी का भुगतान करने की जरूरत होगी है। तो ऐसे में Delivery Trader द्वारा Leverage का कोई भी लाभ आप के द्वारा उठाया नहीं जा सकता है।

    Intraday Trading VS Delivery Trading Which is Better For Beginners Hindi | Intraday और Delivery में से कौनसा लेना चाहिए?

    Intraday या Delivery Trading कौन-सा बेहतर है, यह सवाल हर निवेशक या Trader के मन में हो सकता है। तो उसके लिए, समाधान यह है कि इन दोनों के बीच किसी एक का चयन एक खास विशेष इंसान पर उनकी जोखिम योग्यता, उनके पूंजी निवेश और हर Trade पर उनके जोखिम पर निर्भर करता है। इसमें सब कुछ पहले से ही निर्धारित होना चाहिए और उसके बाद ही व्यक्ति अपनी रणनीति के बारे में चुन सकता है।

    Intraday Traders के लिए, वे इस ट्रेडिंग को जल्द से जल्द Income Earn करने के लिए करते हैं और मुख्य रूप से कीमत पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जबकि Delivery Trading में ट्रेडर्स का मकसद Long Term Market में Return Earn करने के लिए शेयरों में Trade करना होता है। तो आखिर में इस बात का निर्णय की आपको Intraday Trading और Delivery Trading में से कौन-सा चुनना चाहिए ये आप के ऊपर Depend करता है की आपको इनमे से कौन सा ज़्यादा सूट करता है,

    मैंने आप सभी को इन दोनों के बारे में इनके लाभ और नुकसान के साथ अच्छी तरह से समझा दिया है और अब आप अपने हिसाब से यह बेहद आसानी के साथ तय कर सकते हैं की आपको इन दोनों में से किसको चुनना है।

    निष्कर्ष (Conclusion):

    आज के इस Article – Intraday Trading VS Delivery Trading Which is Better For Beginners Hindi के अंदर मैंने आप सभी को Intraday और Delivery Trading में से कौन-सा लेना चाहिए? के बारे में काफी अच्छी तरह से समझाया है साथ ही मैंने Intraday और Delivery के बीच अंतर के बारे में भी आप सभी को बताया उम्मीद करता हूं की अब आपके सभी Doubts Clear हो ही चुके होंगे।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.