Home » How To Stop Overthinking | ज्यादा सोचना कैसे बंद करे?

How To Stop Overthinking | ज्यादा सोचना कैसे बंद करे?

    हम सभी के ही साथ अक्सर हमारी Life में कभी अच्छा तो कभी न कभी तो बूरा भी हो जाता है, जिससे हम काफी ज़्यादा दुखी हो जाते हैं और इसी सोच में पड़ जाते हैं की हाय ! मेरे साथ ही इतना बुरा क्यों हुआ, फिर चाहे वो किसी भी कारण से आपको बुरा लग सकता है हो सकता है की आपके Exam में Marks अच्छे नहीं आते हो या फिर इस बार आप कही घूमने नहीं जा पा रहे या हो सकता है की आपकी किसी ने आपके किसी खास के सामने बड़ी बुरी बेइजती कर दी हो जिसका की आपको काफी ज्यादा बुरा लग गया, और अब आप उस बात को बिल्कुल लेकर ही बैठ गए हो और बार-बार सिर्फ उसी के बारे में ही सोचे जा रहे हो, जो की बिल्कुल ही गलत है हमें ऐसी घटनाओं पर ज्यादा नहीं सोचना (Overthink) चाहिए ये गलत है इसीलिए मैं आज के इस Article ज्यादा सोचना (Overthinking) कैसे बंद करे? यानी की How To Stop Overthinking And Negative Thoughts In Hindi में आप सभी को Overthinking Ko Kaise Door Kare के बारे में काफी भली और काम की बातें बताने वाला हूं

    अगर आप Overthinking का शिकार हो या ज़्यादा सोच-विचार करते हो तो ये Article सिर्फ आप ही के लिए है, जिसमें बताई गई बातों को आप अपनी Life में उतारेंगे तो आपको Overthinking की ये आदत जल्द ही आपका पीछा छोड़ जाएगी, बस उसके लिए आपको इस Article को बिल्कुल अंत तक पढ़ना होगा, आइए ज्यादा सोचना (Overthinking) कैसे बंद करे? से पहले ज़्यादा सोचने (Overthinking) से नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं? उनके बारे में समझ लेते हैं ताकि आप देख पाए की इसके कारण आप अपना कितना नुकसान झेल रहे हैं।

    How To Stop Overthinking
    How To Stop Overthinking

    What Are The Disadvantages Of Overthinking In Hindi | ज़्यादा सोचने (Overthinking) से नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं?

    किसी चीज़ में ध्यान न लगना:

    Overthinking करने के नुकसानों में से आपका सबसे पहला नुकसान ये होता है की आप दिन-रात सिर्फ उन्हीं बातों को सोचते रहते हो जो आपके Past में बीती हैं जिनसे आपका दिल सिर्फ यही कह रहा है की ऐसा आपके साथ क्यों हो गया और बस आप इसके सिवा ऐसे में अपना ध्यान किसी और काम में बिल्कुल भी नही लगा पाते हैं, जिससे की आपके नुकासन ही नुकसान है, क्योंकि जब कभी भी आप कोई काम करने के लिए बैठोगे तो वही बातें दिमाग में फिर से घूमने लग जाएंगी और आप उसे ही सोचने में लग जाओगे।

    Mental Stress और Tensions का बढ़ना:

    अब जब आप हर पल कुछ न कुछ सोचते ही रहेंगे या अपने Past में बीते खराब Time के कारण उसे ही याद कर करके दुखी होते जाएंगे तो ऐसे में आप खुश रहना तो बिल्कुल से भूल ही जाओगे, और सारा सारा वक्त सिर्फ इन्ही बातों की Tension अपने दिमाग में लेकर के घूमोगे जिनका अब कुछ नहीं हो सकता, जो सिर्फ आपका Past था जो की लौट के वापिस नही आ सकता है की आप उसे ठीक कर सके, कुछ लोग तो आने वाले Future के लिए इतनी ज़्यादा Overthinking करने लगते हैं की उन्हें इससे भी काफी Stress और Tension बढ़ने लगता है।

    नींद का भाग जाना:

    कहते हैं की Humans के लिए रात में 7-8 घंटे की नींद लेना बेहद ज़रूरी है, जो की अगर नही होता है तो इस Situation में आपकी Health पर काफी बुरा असर पड़ने लग जाता है, और Overthinking करने से भी Same Problem आपको Face करनी पड़ती है जिसमें की आपकी नींद बिल्कुल भाग जाती है और आप एक उल्लू की तरह देर रात तक जागते ही रहते हैं और अगर आपने सोने की ज्यादा कोशिशें करनी शुरू की तो ऐसे में आप काफी ज़्यादा Frustrated भी होना शुरू हो जाएंगे।

    कीमती Time Waste जाना:

    आज कल सबसे ज्यादा कीमती माना जाने वाला Time भी आपके ज़्यादा सोचने यानी Overthinking के कारण काफी ज्यादा खराब चला जाता है, क्योंकि आप सारा-सारा Time उल्टी सीधी बातों को सोचने में ही लगा देते हैं जिससे की उस Time पर जो चीजे ज़रूरी थी वो नही हो पाती हैं और ऐसे में वो सारा Time जिसमें की आपने अपने Mind में बिना मतलब की Negative Thoughts को जमा कर लिया है जिससे की आपके हाथ उस Time दुख और पछतावे के अलावा कुछ भी नही आ पाता है।

    Overthinking को दूर करने के 10 Best तरीके | Best 10 Ways To Stop Overthinking In Hindi

    मत सोचो कि क्या गलत हो सकता है, सोचो की क्या सही हो सकता है:

    कई बार एक ही Feeling के कारण बहुत अधिक सोचना पड़ता है लेकिन जब आप उन सभी Negative चीजों पर ध्यान देना शुरू करते हैं जो उस Time पर हो सकती हैं, तो ऐसे में आपका दुखी होना बेहद आसान है। लेकिन अब अगली बार जब आपको लगे कि आप उस Direction में फिर से जाना शुरू कर रहे हैं, तो उस वक्त खुद को रोक लें। और उन सभी चीजों को Imagine करें जो उस खराब चीज़ में भी सही हो सकती हैं और उन Thoughts को Present में अपने सामने लाकर के रख दें।

    अपने आप को Happy रखने में Distract करें:

    जब कभी भी आपका मन Overthink कर करके या किसी एक ही Thought के बारे में बार-बार सोच के परेशान हो जाता है तो ऐसे में कभी-कभी खुश रहना, Positive रहना, जैसे Healthy Options के साथ खुद को Distract करने का तरीका बेहद मददगार साबित होता है। Meditation, Dance, Exercise करना या कोई भी एक Instrument सीखना, knitting करना, Drawing और Painting जैसी चीजें आपको उन Issues से दूर कर सकती हैं जो की Overthinking को बंद करने के लिए पर्याप्त हैं।

    चीजों को अलग अलग Perspective में रखें:

    चीजों को जरूरत से ज्यादा बड़ा और नकारात्मक (Negative) बनाना हमेशा कितना आसान होता है। हम ज़रा सा भी Time नही लगाते किसी भी Situation के बारे में अपने मन में गलत Thoughts लाने में, मगर अब अगली बार जब भी आप खुद की Thoughts को तिल से पहाड़ बनाते हुए देखें, तो अपने आप से पूछें कि ये Negative Thoughts जो आप अपने Mind में ला रहे हैं या जिस पर आप इतना ज़्यादा Overthink कर रहे हैं ये अगले पांच सालों में आपके कितना मायने रखने वाला है। या, उस बात के लिए, अगले महीने तक ही कितना Meaningful रहेगा। बस ये एक आसान सा सवाल खुद से पूछने से, अतिविचार (Overthinking) को बंद करने में काफी मदद मिल सकती है।

    Perfection का Wait करना बंद करो:

    ये Point सबसे ज़रूरी है। हम सभी के लिए जो हर Time Perfection का ही Wait करते रहते हैं, की जैसे काश ! ऐसा हो जाता तो मैं ये कर लेता, वैसा हो जाता तो मैं वो कर लेता ये सब बेकार की Thinking हमे अभी Perfect होने का Wait करना बंद करना होगा, Ambitious होना महान होता है लेकिन बिल्कुल Perfect होने का Goal अवास्तविक (Unrealistic) है, ये आप सभी को Impractical और कमज़ोर करने वाला Thought है। जिस भी वक्त आप यह सोचना शुरू करते हैं कि “यह एकदम सही से होना चाहिए” वह वक्त है जब आपको खुद को याद दिलाने की ज़रूरत होती है, ” की इस पूरी दुनिया में कोई भी Completely Perfect बिल्कुल भी नही है।” और न ही हो सकता है आप जो हैं जैसे भी है उसी से आगे की शुरुआत करें।

    डर के प्रति अपना नजरिया बदलें:

    अक्सर हम कोई भी बड़ा Step उठाने में काफी ज़्यादा घबराते हैं की कही आप Fail ना हो जाए, और आप इससे इसलिए डरते हैं क्योंकि आप अपने Past में पहले से ही Fail हो चुके हैं, और अब आप किसी दूसरे Failure के मिल जाने की वजह से डरते हैं, याद रखें कि अगर चीजें पहले ठीक तरह से काम नहीं कर रही थीं तो इसका मतलब ये बिल्कुल भी नहीं है कि हर बार उसका Result वही होगा जो आपको Last Time मिला था। याद रखें, की किसी काम में Fail होने के कारण फिर से उसे शुरू करने से हर अवसर में एक नई शुरुआत होती है।

    सोचने के लिए एक Timer लगाएं:

    अपने आप को एक Limit दें, जिसमें की आप पांच मिनट के लिए Timer Set करें और खुद को सोचने, चिंता करने और Analyze करने के लिए समय दें। एक बार जब Timer बंद हो जाए, तो Pen और Paper के साथ 10 मिनट बिताएं, उन सभी चीजों को लिख लें जो आपको परेशान कर रही हैं, आपको Stress दे रही हैं या आपको चिंता दे रही हैं। जब 10 मिनट का समय हो जाए, तो Paper को बाहर फेंक दें और आगे बढ़ें कुछ नया या मज़ेदार करने के लिए।

    समझें कि आप Future को नहीं जान सकते:

    कोई भी इस धरती पर ऐसा नही है जो भविष्य की भविष्यवाणी कर सकता है, हमारे पास जो है वो सिर्फ़ अभी का ही Time है यानी Present का। यदि आप अपने Present Moments को Future की चिंता में निकाल देते हैं, तो आप अपने आप का अभी Time ही ख़राब कर रहे हैं। Future के ख्यालों में अपना Time Spent करने से आपके अंदर Presently किसी तरह की कोई Productivity नहीं आने वाली। बल्कि आपको उस समय को उन चीजों पर खर्च करना चहिए जो आपको खुशी देती हैं।

    अपना Best Accept करें:

    वह डर जो सबसे ज़्यादा सोचने पर ही Based होता है, अक्सर यही आपको महसूस कराता है कि आप Sufficient Way में बिल्कुल भी अच्छे नहीं हैं – पर्याप्त Smart या पर्याप्त मेहनती या पर्याप्त रूप से किसी काम के लिए Dedicated नहीं हैं। एक बार जब आप अपना Best Perform कर लेते हैं, तो इसे इस रूप में स्वीकार करें और जानें कि, सफलता (Success) कुछ हद तक उन चीजों पर निर्भर हो सकती है जिन्हें आप नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, मगर आपने वह किया है जो आप कर सकते थे, बाकी उसका क्या Result आता है वो तो आपके ऊपर क्या किसी के भी ऊपर नही है और न ही कोई इस चीज़ को Control कर सकता है।

    गलतियां सबसे होती हैं, यह Normal है:

    जी हां, हम जितना हो सके उतना अच्छा करना चाहते हैं और जितना संभव हो उतनी गलतियों से बचना चाहते हैं। लेकिन ऐसे में हमसे गलतियाँ होंगी ही । इसी का नाम जिंदगी है। Successful Businessman जानते हैं कि गलतियाँ करना उन्हें Successful बनाने का एक ज़रूरी हिस्सा है। गलतियों को “बुरा” मानने के बजाय, हमें उन्हें Success के रास्तेके एक Important हिस्से के रूप में देखना चाहिए। गलतियां जितनी हो सके उतनी करें, और इन गलतियों (Failures) का जश्न मनाएं और अपनी हर गलतियों से कुछ न कुछ ज़रूर से सीखें ताकि अगली बार आप और अधिक Successful हो सकें, जिस काम में आपने आज गलती की है, इसीलिए इसकी वजह से खुद पर बोझ न डाला करे की ये क्या कर दिया मैंने मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था वगहरा – वगहरा।

    हमेशा आभारी रहें:

    आप एक ही Time में एक Regretful Thought और एक आभारी (Thankful) Thought बिल्कुल भी नहीं रख सकते हैं, तो क्यों न ऐसे में Time को Positive Way में Spent किया जाए, हर सुबह और हर शाम, एक List बनाएं कि आप किन-किन चीजों के लिए आभारी (Thankful) हैं। और हर उस चीज़ के लिए दिल से Thankful हो, जिनकी वजह से आप आज इस मुकाम पर हो, ऊपर वाले ने आज तक आपको जो कुछ भी दिया है उन सबके लिए, सुबह उठ कर आज का दिन Best जाए ऐसी कामना करे और शाम को आज का पूरा दिन आपका कैसा भी अच्छा या बुरा गया हो आपको हर Situation में ज़रूर आभार (Thankful) मानना चाहिए।

    निष्कर्ष (Conclusion) :

    आज के इस Article ज्यादा सोचना (Overthinking) कैसे बंद करे? यानी की How To Stop Overthinking And Negative Thoughts In Hindi में हम सभी ने समझा की जो लोग एक बात को बार बार सोच-सोच कर (Overthinking) से अपने आप को परेशान कर लेते हैं और जिसकी वजह से उनकी Mental Health तक पर काफी बुरा असर पड़ सकता है वो अपनी इस Overthinking की आदत को कैसे छुड़ा सकते हैं जिसमें की मैंने आप सभी को Overthinking को दूर करने के 10 Best तरीके भी बताएं हैं जिनसे आप अपनी Life में एक बेहतरीन सुधार को ला सकते हैं।

    इन सब बातों के साथ आज का ये Article यही पर खत्म होता है अब आप मुझसे अपने सभी सवाल और आप जो भी मुझे अपनी राय देना चाहते हो Comment करके वो भी ज़रूर से दे सकते हैं, मैं आपके सभी सवालों के सही-सही जवाब देने की पूरी कोशिश करूंगा।

    इसे पढ़े: टीमवर्क कैसे करे?
    इसे पढ़े: सुबह जल्दी कैसे उठें?
    इसे पढ़े: जिंदगी को बदल देने वाली आदतें

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *